बच्चों के लिए गाँधी जयंती पर भाषण | Gandhi Jayanti Speech

देश की आज़ादी में गांधीजी के योगदान से पूरी दुनिया परिचित है। उनके जन्मदिन 2 अक्टूबर को गाँधी जयंती के रूप में हर साल मनाया जाता है। इस लेख में हम गाँधी जयंती भाषण शेयर कर रहे है जिन्हें गाँधी जयंती के अवसर पर बोला जा सकता है। बच्चों/स्टूडेंट्स के लिए गाँधी जयंती पर भाषण। Speech on Gandhi Jayanti for School in Hindi

Speech on Gandhi Jayanti for School in Hindi, Gandhi Jayanti Speech in Hindi , Gandhi Jayanti Par Bhashan

गाँधी जयंती का दिन न सिर्फ भारत के लिए बल्कि पूरे विश्व के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि गांधीजी के जन्मदिन पर अंतरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस मनाया जाता है। गांधीजी अहिंसा व सत्य के सबसे बड़े पुजारी थे।

इस अवसर पर हम सरल आसान भाषा में गाँधी जयंती भाषण प्रस्तुत कर रहे है। ये भाषण विशेषकर स्कूली बच्चों को ध्यान में रखकर लिखे गए है।

गाँधी जयंती पर भाषण – Gandhi Jayanti Speech in Hindi Language

Gandhi Jayanti Par Bhashan 2019

आदरणीय प्रिंसिपल सर, सभी अध्यापकगण, सहपाठियों और अभिभावकों को मेरा नमस्कार व अभिवादन। मेरा नाम … है, मैं कक्षा … का छात्र हूँ। आज हम सभी यहाँ ‘गांधी जयंती‘ मनाने के लिए एकत्रित हुए हैं। गाँधी जयंती को पूरे देश में 2 अक्टूबर के दिन मनाया जाता है। इस सुअवसर पर मैं आपके समक्ष एक भाषण प्रस्तुत कर रहा हूँ।

आज 2 अक्टूबर है। इसी दिन 2 अक्टूबर 1869 को पोरबंदर, गुजरात में गांधीजी का जन्म हुआ था। इनका पूरा नाम मोहनदास करमचंद गाँधी है। गांधीजी के पिता का नाम करमचंद गांधी और माता का नाम पुतलीबाई था। इन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा को पूरी करने के बाद वकालत की पढाई लंदन से की थी।

भारत की आज़ादी में गांधीजी का बहुत बड़ा योगदान है। इनकी वजह से ही हमारे देश में बड़े बड़े आंदोलन हुए और अंग्रेज़ों को भारत छोड़ने पर मज़बूर होना पड़ा। गांधीजी को बापू और राष्ट्रपिता के नाम से भी जाना जाता। आज़ादी के एक साल बाद सन 1948 में नाथूराम गोडसे नामक शख्स ने गोली मारकर गांधीजी की हत्या कर दी थी।

गांधीजी अहिंसा और सत्य मार्ग के पक्के प्रवर्तक थे। इनका जीवन लाखों लोगों को बिना हथियार लिए कुछ करने की प्रेरणा देते है।

जिस प्रकार गांधीजी ने देश से अंग्रेज़ों को निकाला था, उन्ही के तर्ज़ पर हमारे प्रधानमंत्री मोदीजी ने गांधीजी के जन्मदिन २ अक्टूबर को स्वच्छ भारत अभियान शुरू किया था। हम सभी को यह शपथ लेनी चाहिए कि हम इस देश के हर हिस्से को स्वच्छ रखेंगे। धन्यवाद।

बच्चों के लिए गाँधी जयंती पर हिंदी स्पीच

आदरणीय प्रधानाचार्य महोदय, शिक्षकों और मेरे प्रिय सहयोगियों को शुभ प्रभात। हम सभी जानते हैं कि आज हम गांधी जयंती को मनाने के लिए इकट्ठा हुए हैं। इस अवसर पर मैं आपके सामने गाँधी जयंती भाषण रख रहा हूँ।

आज का दिन 2 अक्टूबर है। यह दिन महात्मा गांधी की जयंती का दिन है। हम इस दिन को बड़े उत्साह के साथ राष्ट्रपिता को समर्पित करते है और साथ ही ब्रिटिश शासन से देश के लिए स्वतंत्रता के लिए उनके द्वारा किये अहिंसक साहसी कार्यों को नमन करते हैं।

आज का दिन गांधी जयंती भारत के तीन राष्ट्रीय अवकाशों में से एक है। इस अवसर को हमें गांधीजी के जन्मदिन को मनाने के साथ साथ उनके चरित्र को हमारे जीवन में उतारने के दृष्टिकोण से भी देखना चाहिए और अनुशासन, सत्य, अहिंसा की राह पर चलना चाहिए।

Mahatma Gandhi Jayanti Bhashan Hindi Me

माननीय मुख्य अतिथि, आदरणीय अध्यापकगण, अभिभावकों और मेरे प्यारे सहपाठी भाई बहनों को नमस्कार।

आज का दिन बड़ा स्पेशल है। यह दिन हमारे देश को आज़ादी दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले महात्मा गाँधी का जन्मदिन है। इसी दिन 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में गांधीजी का जन्म हुआ था।

गांधीजी ने देश को आज़ाद कराने के लिए सत्याग्रह आन्दोलन और भारत छोड़ो जैसे महान ऐतिहासिक आंदोलनों को शुरू किया और उनका नेतृत्व कर पूरे देश को एकजुट कर अंग्रेज़ों को निकाला।

गांधीजी सदा सत्य और अहिंसा के पथ पर चले। उन्होंने स्वदेशी अपनाने पर जोर दिया। गांधीजी व उनकी पत्नी ने महिलाओं की स्थिति को भी सुधारने के लिए बहुत से कार्य किये। आज हम उनके महान कार्यों को नमन करते है।

हमें भी उनके दिखाए रास्ते पर चलना चाहिए और देश को बुलंदियों की ऊंचाई तक पहुँचाने में तन मन धन से सहयोग करना चाहिए।

अंत में हम यही कह सकते हैं कि वो एक महान क्षमता तथा योग्यता के धनी व्यक्ति थे। उन्होंने अपने नेतृत्व कौशल से भारतीय स्वतंत्रता संघर्ष में एक अहम भूमिका निभाई। देश के स्वतंत्रता संघर्ष में उनके इस योगदान के चलते हम और हमारे देश की आने वाली पीढ़ीया सदैव उनकी ऋणी रहेंगी। धन्यवाद…।


महात्मा गाँधी एक महान व्यक्तित्व के धनी थे और स्वतंत्रता संघर्ष में किये नेतृत्व और कौशल के कारण आज उनका इतिहास के स्वर्णिम पन्नों में दर्ज़ है।

यह भी पढ़ें:

अगर आपको यह ‘Speech on Gandhi Jayanti for School in Hindi‘ लेख पसंद आया है तो इस शेयर अवश्य करें।

Leave a Reply

Close Menu