मोबाइल बैटरी के बारे में अफवाहें – Myths about Smartphone Battery in Hindi

बैटरी लाइफ किसी भी नए स्मार्टफोन को ख़रीदे जाने के वक़्त सबसे पहले देखे जाने वाले पहलुओं में से एक है। बाजार में आज भी स्मार्टफोन बैटरी को लेकर कई मिथ्स है जिन्हें आपको अवश्य जानना चाहिए। smartphone battery myths in hindi

एंट्री-लेवल और मिड-रेंज मोबाइल फ़ोन्स को मजबूत बैटरी लाइफ पर फोकस कर बनाया जाता है जबकि प्रीमियम फ़ोन एक शक्तिशाली सीपीयू, एक शानदार हाई-रिज़ॉल्यूशन स्क्रीन और बेहतर कैमरा अनुभव के आधार पर बनाये जाते है और उनमें बैटरी का अच्छा होना लाज़िमी है।

चलिए जानते है स्मार्टफोन बैटरी के कुछ कॉमन मिथ्स के बारे में। यह गलत है लेकिन लोग आज भी इन्हें मानते है और लोगों में प्रचलित है।

SmartPhone Battery Myths जिन्हें आप सच मानते होंगे

Smartphone Battery Myths in Hindi

इस आर्टिकल में हम स्मार्टफोन बैटरी की अफवाहों और उनकी रियलिटी के बारे में बता रहे है…

Myth 1: फ़ोन को पूरी रात चार्ज पर लगाने से बैटरी ओवरचार्ज हो जाएगी

यह गलत है।

एक बार जब आपके फ़ोन की बैटरी 100% चार्ज हो जाती है, तो मोबाइल में करंट प्रवाह बंद हो जाता है जिससे आपके मोबाइल फ़ोन बैटरी को कोई खतरा नहीं रहता है।

यह बात पहले लिथियम आयन बैटरी में सच होती थी कि फ़ोन को पूरी रात चार्ज पर लगाने से बैटरी ओवरचार्ज हो जाती है लेकिन आज के सभी स्मार्टफोन एडवांस टेक्नोलॉजी के साथ आते है जिसके चलते यह बैटरी पूरी चार्ज होने चार्जर को डिसकनेक्ट कर देते है।

Myth 2: चार्ज करने से पहले बैटरी को पूरी तरह से डिस्चार्ज कर देना चाहिए

यह पुरानी बैटरियों के बारे में है और आज के जमाने में पूरी तरह से गलत है।

किसी भी मोबाइल फ़ोन को भले ही वो आधा डिस्चार्ज हो या पुरा, उसे चार्ज कर सकते है और इससे बैटरी को कोई समस्या नहीं होगी।

Myth 3: हमेशा फोन के लिए स्मार्टफोन कंपनी के खुद के चार्जर का उपयोग करें

यह जरूरी नहीं है कि आप अपने फ़ोन को चार्ज करने के लिए mobile phone company के चार्जर का ही इस्तेमाल करें। आप दूसरी कंपनी के चार्जर का भी इस्तेमाल कर सकते है लेकिन इस बात का ध्यान रखते हुए कि वो उपयुक्त है और कोई थर्ड पार्टी सस्ता चार्जर नहीं है।

Myth 4: चार्जिंग के दौरान फ़ोन का उपयोग न करें

मॉडर्न डिवाइस इस सुविधा के साथ आते है कि उन्हें चार्जिंग के दौरान उपयोग किया जा सकता है और इससे कोई दिक्कत नहीं है।

लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि चार्जिंग के दौरान फ़ोन overheat हो और आप उसका इस्तेमाल कर रहे है। Overheating होने पर फ़ोन को कूल होने पर यूज़ करना बेहतर है।

Okay, हमने अधिकतर smartphone battery myths या अफवाहों को कवर कर लिया है जो स्मार्टफोन बैटरी के जीवन को बढ़ाने में मदद कर सकते हैं। अगर आपको लगता है कि कोई मोबाइल बैटरी मिथक रह गया है तो हमें टिप्पणी करके बताएं।

👇 नीचे दिए buttons पर क्लिक कर Post को शेयर करें:

Add a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.