Facebook Group Ko Manage Kaise Kare

फेसबुक ग्रुप लोगों के साथ जुड़ने, अपनी कहानियों तथा फोटोज को साझा करने और किसी विषय पर चर्चा करने के लिए फेसबुक का एक शानदार मंच है लेकिन इंटरनेट के कई अन्यों प्लेटफॉर्म्स की तरह फेसबुक ग्रुप्स का भी स्पैम, trolling और भड़काऊ बातों के लिए बहुत उपयोग होता है जो इसे इसके मुख्य उद्देश्य से भटकाता है।

चलिए इस आर्टिकल में जानते है कि फेसबुक ग्रुप्स को नियंत्रण में कैसे रखें यानि Facebook group ko manage kaise kare perfectly!

facebook group ko manage kaise kare, how to manage facebook group

Facebook group managing tips से पहले जान लेते है कि फेसबुक ग्रुप को कैसे बनायें. अगर आप पहले से ही किसी फेसबुक ग्रुप के owner है या नया ग्रुप create करना नहीं चाहते है तो ग्रुप मेकिंग गाइड को स्किप कर सीधा how to manage fb group सेक्शन पर जा सकते है।

फेसबुक ग्रुप कैसे बनायें

फेसबुक पर ग्रुप बनाना बहुत आसान है। इसके लिए आपके पास सिर्फ फेसबुक आईडी/अकाउंट होना जरूरी है।

On Desktop/Laptop: सबसे पहले अपने फेसबुक अकाउंट को open करें और राइट साइड में ऊपर की ओर Create पर क्लिक करें। फिर यहाँ आपको 4 अलग अलग ऑप्शन दिखाई देंगे, इनमे से Group को सेलेक्ट करें और आगे की प्रोसेस पूरी करें।

On Mobile/Smartphone: मोबाइल में फेसबुक ऐप्प को ओपन करें और राइट साइड में ऊपर three line पर जाएँ। यहाँ groups > manage > create group पर टैप करें।

अब आपको ग्रुप का नाम रखना है, लोगों को ऐड करना है (कम से कम एक को) तथा ग्रुप की प्राइवेसी चुननी है। (more details ahead)

अपने ग्रुप के टॉपिक के अनुसार ग्रुप का सही प्राइवेसी लेवल चुनें और क्रिएट करें। इसके बाद आगे बढ़ें और ग्रुप के लिए icon सेट करें जो इसके niche/topic /category को specify करे।

अच्छे से फेसबुक ग्रुप को कैसे मैनेज करें (How to Manage Facebook Group)

1. Choose Right Privacy Level

किसी भी फेसबुक ग्रुप के लिए यह बहुत महत्वपूर्ण है कि वो फेसबुक पर उपलब्ध होना चाहिए कि नहीं या उसकी प्राइवेसी क्या है!

फेसबुक ग्रुप में प्राइवेसी ऑप्शन तीन तरह के होते है; Public, Closed, and Secret. जानें कि इनमें क्या फर्क है!

Public: इस प्रकार के फेसबुक ग्रुप जो पब्लिक होते है, में कोई भी फेसबुक यूजर इसके सदस्यों और उनकी पोस्ट्स को देख सकता है।
Closed: Closed fb groups को कोई भी fb user फेसबुक पर सर्च कर सकता है और उसमें members को देख सकता है लेकिन ग्रुप सदस्यों की पोस्ट्स को नहीं देख सकता है। मेंबर्स की individual posts देखने के लिए ग्रुप में ज्वाइन होना जरूरी है।
Secret: इस प्रकार के ग्रुप्स में सिर्फ invitation द्वारा जुड़ा जा सकता है। इन्हें फेसबुक पर सर्च नहीं किया जा सकता है।

प्राइवेसी सेटिंग्स के लिए यह महत्वपूर्ण है कि आप उन्हें अच्छी तरह से समझते है और ग्रुप मेंबर्स उनसे सहमति रखते है।

ग्रुप की प्राइवेसी सेटिंग एक बार सेट करने के बाद उसे बदलना critical होता है अत: उसके लिए यहाँ चेक करें।

2. Clear Guideline लिखें और उसे पिन करें

यह जरूरी है कि ग्रुप के रूल्स सभी मेंबर्स के लिए क्लियर हो group description में यह clearly लिखा होना चाहिए कि ग्रुप किस बारे में है और इसमें किन बातों से संबधित डिसकस किया जायेगा। ऐसे बहुत सारे फेसबुक ग्रुप है जो इस काम को सही से नहीं करते है और ग्रुप ढंग से ऑपरेट नहीं होता है जिसके चलते group में spammers की संख्या बढ़ जाती है।

Description में सभी आवश्यक चीज़ों को बतायें और साथ में mention करें कि अगर कोई कोई सदस्य नियमों को नहीं मानता है तो उसे ग्रुप से remove किया जा सकता है। फिर इस डिस्क्रिप्शन को पिन कर दें ताकि सभी सदस्य इसे read कर लें।

3. Group Category सेट करें

फेसबुक ग्रुप को बनाने के बाद आप इसके टाइप जैसे buy and sell, parents, neighbors, study group, support, custom and more को सेट कर सकते है जिससे फेसबुक users को ग्रुप को खोजने में आसानी होती है। आप fb group में TAGS भी जरूर ऐड करे जो इसे आसानी से खोज योग्य बनाते में हेल्प करते है।

4. Start approve Posts before Publishing

किसी भी बड़े ग्रुप के लिए स्पैम रोकना एक काम होता है ताकि ग्रुप प्रॉपर तरीके से चलता रहे। अगर किसी ग्रुप में स्पैम रिलेटेड jyada पोस्ट्स होती है तो फेसबुक उसकी reach को कम कर देता है। ऐसा कोई भी ग्रुप एडमिन नहीं चाहेगा अत: ग्रुप में प्रॉपर स्पैम कण्ट्रोल के लिए approve posts का ऑप्शन ऑन कर सकते है।

आप चाहें तो यह तय कर सकते है कि ग्रुप में पोस्ट कौन कर सकता है; सिर्फ एडमिन या सभी मेंबर्स लेकिन इसके अलावा एक और तरीका है कि ग्रुप में किसी नई पोस्ट के पब्लिश होने से पहले उसे चेक करना यानि पोस्ट ग्रुप के अनुसार है या नहीं। अगर हाँ तो इसे अप्रूव करके पोस्ट पब्लिश कर दें।

पोस्ट अप्रूविंग के लिए ग्रुप मॉडरेटर्स रख सकते है।

5. Set Moderators

अगर आप कोई बड़ा फेसबुक ग्रुप चला रहे है जिसमें users की संख्या ज्यादा है या जैसे-जैसे ग्रुप बड़ा होता जाता है, यह एक बेहतरीन आईडिया है कि उसमें मॉडरेटर्स बनायें।

इससे ग्रुप एडमिन पर से प्रेशर हट जाता है क्योंकि बड़े ग्रुप में one person के लिए सभी requests तथा पोस्ट को हैंडल करना आसान नहीं होता है। आप किसी को ग्रुप एडमिन भी बना सकते है।

6. Extra tips

  • ग्रुप में जब भी नए मेंबर्स की रिक्वेस्ट को accept करें तो फेक प्रोफाइल्स का ध्यान रखें क्योंकि बहुत से लोग सेल्फ प्रमोशन तथा अन्य अनावश्यक गतिविधियों के लिए अलग अलग ग्रुप्स को ज्वाइन करते है।
  • अगर कोई व्यक्ति जिसके कोई friends नहीं है, पर्सनल डिटेल/प्रोफ़ाइल पिक्चर नहीं है या अन्य किसी भी तरीके से वो genuie नहीं लगे तो बेहतर है कि उसकी request को avoid करें।
  • समय-समय पर ग्रुप को description को अपडेट करते रहें या उसे पिन रखें ताकि ग्रुप के नए सदस्य भी उससे वाकिफ हो जाये और किसी misleading से बचें।
  • अगर आप फेसबुक ग्रुप की क्वालिटी को बढ़ाना चाहते है कि वही users इसे join करें जो वास्तव में इंटरेस्टेड हो तो उसके लिए आप new members को ज्वाइन होने से पहले तीन प्रश्न पूछ सकते है। ये प्रश्न सेट करने का ऑप्शन आपको easily ग्रुप में मिल जायेगा।
  • ऐसे member जो ग्रुप में प्रॉब्लम create करते है या स्पैमिंग करते है तो आप उन्हें हटा सकते है (हिस्ट्री को भी) ताकि ग्रुप एक safe place बना रहे।

इनके अलावा भी फेसबुक ने ग्रुप कम्युनिटी को इम्प्रूव करने के लिए एडमिन को कई फीचर्स दिए होते है जिनकी सहायता से कोई भी group admin इसे एक बेहतरीन कम्युनिटी बना सकता है, भले ही वो किसी बिज़नेस के लिए हो या अन्य कुछ।

I Hope आपको ये फेसबुक ग्रुप को मैनेज करने के टिप्स हेल्पफुल लगे होंगे। कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं और आपके किसी फेसबुक ग्रुप के experience को जरूर साझा करें अगर हो तो।

Leave a Reply

Close Menu