परीक्षा के तनाव से बचने के 6 टिप्स | Exam Stress से कैसे बचें?

परीक्षाओं का दौर शुरू होने को है। बहुत से विद्यार्थी है जो साल भर ढंग से पढ़ाई नहीं कर पाए हैं और अब उनके मन में परीक्षा को लेकर चिंता हो रही है। साथ ही कई विद्यार्थी ऐसे भी है जो साल भर पढ़ते हुए भी परीक्षा के तनाव में है। विद्यार्थियों की इस समस्या के समाधान हेतु इस लेख में बताया है कि पढ़ाई के तनाव को दूर कैसे करें?

pariksha tanav se kaise bache, how to deal with exam stress, exam tension se kaise bache

विद्यार्थी जीवन में किसी का भी अधिकतर काम यही होता है कि वो अच्छे से पढ़ाई करें। फिर भी ऐसा क्यों है कि बहुत से विद्यार्थी या तो पढ़ते नहीं है या पढ़ते हैं तो भी परीक्षा के तनाव से घिरे रहते हैं। आइए जानते हैं कि किस प्रकार एक विद्यार्थी पढ़ाई में मन लगाकर परीक्षा के तनाव को दूर भगा सकता है।

परीक्षा तनाव की कई वजह हो सकती है जैसे कि परीक्षा की सही से तैयारी न कर पाना, माता-पिता की उम्मीदें, प्रतिस्पर्धा, health issues etc.

Let’s Know परीक्षा तनाव से बचने के तरीके 👇👇

परीक्षा के तनाव से कैसे बचें {How to Deal with Exam Stress in Hindi}

1. खुद पर विश्वास रखें

परीक्षा के दिनों में आपको अन्य विषयों पर चिंता नहीं करनी चाहिए। खुद पर विश्वास रखें और मन में यह धारणा रखें कि जो होगा, अच्छा होगा।  

आपको अपने साथियों के संपर्क में जरूर रहना चाहिए लेकिन उनकी परीक्षा तैयारी को देखकर भयभीत नहीं होना है। आपने अपनी जिंदगी में इससे पहले भी कई परीक्षाएं दी हुई होंगी और उनमें अच्छा प्रदर्शन किया होगा तो फिर अब क्यों चिंता कर रहे हो ! बस मन में सकारात्मकता रखो।  

वैसे भी अगर आप परीक्षा की ज्यादा चिंता करते हो तो इसका उल्टा प्रभाव आप पर ही पड़ता है क्योंकि इससे आपकी पढ़ाई बाधित होती है और आप पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित नहीं कर पाते है। इसलिए दिमाग से हर तरह की चिंता या तनाव को हटा देना चाहिए। आपको परीक्षा के समय अपनी सफलता पर यकीन रखना चाहिए।  

2. टाइम मैनेजमेंट सही रखें

परीक्षा जैसे महत्वपूर्ण समय में अगर आप अपना टाइम मैनेजमेंट सही से नहीं कर पाते हैं तो यह आपके लिए चिंता का कारक हो सकता है। परीक्षा के समय आपके सोने और जागने का समय तय होना चाहिए।  

अगर आप एक रूटीन बना कर पढ़ाई करते हो तो आप पर अधिक पढ़ाई का बोझ नहीं पड़ता है और आप अच्छे से पढ़ पाते हैं। यही टाइम मैनेजमेंट का सबसे बड़ा फायदा है।  

परीक्षा के तनाव से बचने हेतु टाइम मैनेजमेंट अच्छे से करें और आपको इसकी बेहतर परिणाम मिलेंगे।  

3. अपनी पढ़ाई पर भरोसा रखें

परीक्षा के दौरान अक्सर विद्यार्थी उन विषयों के बारे में सोच-सोच कर परेशान होते रहते हैं जिन्हें उन्होंने नहीं पढ़ा है या जिनमें वो कमजोर है। इस महत्वपूर्ण समय में आपको अपने पढ़े हुए पर भरोसा रखना चाहिए। ऐसा करने से ही आप परीक्षा के भय से बच पायेंगे या भर पायेंगे।  

कई विद्यार्थी यह सोचते रहते हैं कि पूरा पेपर उन्हीं हिस्सों में से आएगा जिसे उन्होंने नहीं पढ़ा है या नहीं पढ़ पाए हैं। आपको इस प्रकार के विचारों से बचकर रहना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से आप पढ़े हुए टॉपिक्स को भी अच्छे से लिख नहीं पाएंगे। अपनी पढ़ाई पर भरोसा बनाए रखें और यह सोचें कि आपने जो पढ़ा है, पेपर उसी में से आएगा।

4. रिवीजन जरूर करें

परीक्षा के दौरान आपने अब तक सालभर जो भी पढ़ा है, उसका रिवीजन जरूर करें। ऐसा करने से आप अपने पढे़ हुए टॉपिक्स को अच्छे से क्लियर कर लेंगे और पेपर के टाइम उत्तर पुस्तिका में व्यवस्थित और बेहतर उत्तर दे पाएंगे।  

परीक्षा के समय आपको अधिक नई चीजें नहीं पढ़नी चाहिए क्योंकि ऐसा करना तनाव का कारण बन सकता है और यह आपकी पढ़ी हुई चीजों पर प्रभाव डालेगा इसलिए परीक्षा टाइम में रिवीजन (Revision) को प्रायोरिटी (Priority) जरूर दें।  

5. हेल्थ व खानपान सही रखें

परीक्षा के दौरान अपने खान-पान व हेल्थ का ख्याल रखना जरूरी है। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो यह आपके लिए अच्छा नहीं होगा क्योंकि परीक्षा जैसे महत्वपूर्ण समय में अगर आप बीमार पड़ जाते हैं तो आप पढ़ या revision नहीं कर पाते हैं और यह आपके लिए तनाव का बहुत बड़ा कारण होगा।

परीक्षा के समय पोषक तत्व युक्त आहार लें और भारी भोजन ना करें। नियमित अंतराल पर पानी पीते रहें। यह आपके लिए फायदेमंद रहेंगे।  

6. पैरेंट्स ख्याल रखें

परीक्षा के समय माता पिता का अपने बच्चों पर ध्यान देना जरूरी है। इस महत्वपूर्ण समय में पैरंट्स को अपने बच्चों के साथ सकारात्मक बातें करनी चाहिए और उन पर अधिक नंबर लाने का दबाव नहीं डालना चाहिए। अगर parents बच्चों पर अधिक दबाव डालते है तो यह बच्चों के लिए तनावकारी हो सकता है।  

परीक्षा के समय पेरेंट्स को अपने बच्चों को बताना चाहिए कि परीक्षा खुद को साबित करने का एक अवसर है। इससे आपको नहीं डरना चाहिए। बच्चों के मन में चल रहे विचारों को समझना चाहिए और उन्हें अच्छे से परीक्षा के लिए गाइड करना चाहिए।  

अगर पैरेंट्स अपने बच्चों को परीक्षा के लिए मोटिवेट करते हैं तो बच्चे परीक्षा के समय अच्छे से पढ़ाई कर पाते हैं और पेपर्स को अच्छे से क्लियर कर पाते हैं।  

परीक्षा के टाइम पेरेंट्स को इस बात का ध्यान रखना चाहिए और उनकी एक्टिविटीज पर नजर रखनी चाहिए कि कहीं बच्चा तनाव में तो नहीं है। अगर ऐसा है तो बच्चे को मोटिवेट करें।


अंतिम शब्द

परीक्षा के तनाव से बचने के लिए अपने मन से परीक्षा का डर निकालिये क्योंकि परीक्षा तो एक बार खुद को साबित करने का अवसर है। परीक्षा को एक जश्न की तरह लीजिए। परीक्षा जीवन नहीं बल्कि जीवन का एक छोटा-सा हिस्सा है। परीक्षा को फोबिया न बनाते हुए इसका आनंद लें।

आपको परीक्षा के तनाव से बचने के लिए परीक्षाओं को एक अवसर की तरह लेना चाहिए क्योंकि परीक्षायें आपके ज्ञान का आकलन करती है, न कि संपूर्ण जीवन का मूल्यांकन है। अतः जब तक आप पढ़ाई के तनाव में रहेंगे, आप अपने आप को पढ़ने के लिए ना तो पर्याप्त समय दे पाएंगे और ना ही पढ़ाई पर ध्यान लगा पाएंगे।

पढ़ाई यानि परीक्षा के तनाव को मन से निकालिए और बैठ जाइए पढ़ाई करने…

I Hope आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी जिसमें हमने जाना कि परीक्षा के तनाव से कैसे बचें? इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें।

Leave a Reply