चुनाव पर शायरी – Best Election Shayari in Hindi

चुनाव प्रचार करने या वोट मांगने के लिए शायरी का उपयोग करने से एक इम्पैक्ट क्रिएट होता है। ऐसे में यहाँ शेयर की गई यह चुनाव शायरी हिंदी आपके दिल को जरूर भाएगी।

लोकतंत्र देश में चुनाव बहुत अहम होते है क्योंकि इससे देश की सरकार को चुनने का फैसला जनता के हाथ में होता है और लोकतंत्र की परिभाषा निर्धारित होती है।

चुनावों के दौरान नेता लोगों को भाषण के लिए जोशीली चुनावी शायरी की जरूरत होती है क्योंकि चुनाव पर शेर शायरी से स्पीच मजेदार और आकर्षक बनता है। इसके अलावा आम जनता भी इन इलेक्शन शेरों शायरी के मजे ले सकती है।

वोट मांगने के लिए चुनाव पर शायरी – Shayari on Election in Hindi 2020

चुनाव शायरी

चुनाव शायरी

झूठी बातों पर यकीन करा लेते हैं
रहता है सच्चाई का अभाव,
अब ध्यान रखना है आपको
नजदीक आ गए हैं चुनाव।

ऊंचे-ऊंचे पदों पर बैठे हैं
तोड़कर जनता का विश्वास,
अब इनको कराना है
लोकतंत्र की ताकत का एहसास।

झूठे वादों और ख्याली पुलावों से
नहीं होना है भ्रमित,
चुनाव के समय में झूठे नेताओं को
अपने मतदान से करना है चित्त।

चुनाव आए हैं तो
यह नेता पकड़ रहे हैं हमारे पैर,
नहीं तो इन नेताओं को जरा भी
नहीं रहती है जनता की खैर।

ठंड गर्मी या हो बरसात
हर वक्त मेहनत करता है किसान,
चुनाव आते जाते रहते हैं
पर नहीं होता है
इनकी समस्याओं का समाधान।

जनता के साथ रहकर
जनता को देते हैं धोखा,
भ्रष्टाचार को पनपाकर यह
देश को बनाते हैं खोखा।

महंगाई बढ़ जाने से आसमान को
छूने लगता है चीजों का भाव,
फिर भी राजनीति की कड़क दवा
देकर नेता जीत जाते हैं चुनाव।

जनता से प्यार का
हर नेता करता है दिखावा,
फिर 5 साल नहीं आते हैं वापस
बोलते हैं जनता के पैसे पर धावा।

हर बार करते हैं वादा
कि युवाओं को मिलेगा रोजगार
पर जब जीत जाये चुनाव तो फिर
कम हो जाता है युवाओं से प्यार।

जब नजदीक आती है
चुनाव की सरगर्मियां,
शुरू हो जाती है भाषण
और रैलियों की आंधियां।

किरदारों की कमी नहीं
पर नाटक है वही पुराना,
चुनावों की कमी नहीं पर
काम वही जनता को चूना लगाना।

बाप की जागीर समझ जनता के पैसे लूटते हैं,
बड़े-बड़े अपराध कर बिना सजा काटे जेलों से छूटते हैं।

Best Election Shayari in Hindi

राजनीति के रंग में ज्यादा मत रंगना,
नेताओं का काम होता है ठगना।

election shayari in hindi

अब पकड़ रहे हैं पैर
पहले खाते थे भाव,
सोच लें थोड़ा जनता
नजदीक आ गए हैं चुनाव।

पैरों में पड़ रहे हैं वो नेता जो
खुद को समझते थे भीष्म पितामह,
सियासत का खेल है बाबू भैया
चुनावों की अलग ही है महिमा।

जनता का हर मुद्दा
आज है इनका अपना,
अगर जीत गए चुनाव
तो फिर इनसे मिलने के लिए
आप राम नाम ही जपना,
क्योंकि जीतने के बाद इनसे मिलना
जनता के लिए रह जाता है सिर्फ सपना।

कोई बनकर बैठा है भोला तो
कोई खुद को समझ रहा है दबंग,
आया है चुनाव, लोगों में
चढ़ रहा है राजनीति का रंग।

असलियत कुछ अलग ही होती है
बाहर कुछ और ही बयां करती है नेताओं की जीभ,
यह राजनीति का खेल है जो दुश्मनों को भी ले आता है करीब।

चाहे राजस्थान हो या यूपी बिहार,
चुनाव से ही बनती है सरकार।

संप्रदायों में तनाव बढ़ रहा है
लगता है आ गए हैं चुनाव,
एक-दूसरे से लड़ा कर नेता पका रहे हैं
अपने हार जीत के वडापाव।

जब चुनाव आते हैं करीब
तो नेताओं को याद आते हैं गरीब।

गरीबी का आलम यह है कि
इस एक शब्द से सेंक जाती है
नेताओं की चुनावी रोटियां,
हम देते रह जाते हैं सिर्फ बधाइयां।

विधानसभा के चुनाव की शायरी

जात-पात के भेदभाव मिटाकर
सच्चे मन से करना है प्रत्याशी का चयन,
आए हैं विधानसभा के चुनाव
खोल लेना अपने दूर दृष्टि के नयन।

झूठे वादों के बहकावे में आकर
नहीं करना है झूठे नेताओं को मतदान,
जागरूक नागरिक का फर्ज निभा कर
देश को आगे बढ़ाने में करना योगदान।

आमजन की हर परेशानी को
अपना बता रहे हैं,
यह वही नेता है जो सिर्फ चुनाव के समय विकास का गीत गा रहे हैं।

आगे बढ़ेंगे हर नर नारी,
गरीबों के लिए योजनाएं लाएंगे कल्याणकारी,
हर बार की तरह होकर गुमराह
इस बार भी जनता पछताएगी बेचारी।

जनता से वोट पाने के लिए
जाग रहे हैं नेता दिन और रातें,
हर गली मोहल्ले में हो रही है
चुनाव और सिर्फ चुनाव की बातें।

जनता को दिला रहे हैं फिर से विश्वास,
5 साल बीत गए
फिर भी नहीं बुझी है इनकी प्यास।

हर पार्टी में कुछ सही तो कुछ गलत है,
यह जनता ही है जिनसे नेताओं का काम बनत है।

कौन क्या कर रहा
कौन कहां से भर रहा है पर्चा,
सोशल मीडिया की हर दूसरी
पोस्ट में है चुनाव की चर्चा।

चुनाव आते हैं तो करते हैं अनेक वादे
पर पता नहीं जीतने के बाद
क्यों बदल जाते हैं इनके इरादे।

झूठे वादों की कसमें खाकर
जनता की आंखों में झोंक रहे हैं धूल,
आ गये है चुनाव
दादा से लेकर पोते तक
हर कोई है चुनावी बातों में मशगूल।

चुनाव जीतने के बाद जनता के हाथ रहते है खाली
पर नेता मनाते है दिवाली

विधायक शायरी

जीत गए विधानसभा के चुनाव
तो यह बन जाएंगे विधायक,
काम-वाम कुछ नहीं करेंगे
जनता को ऐसे ही बनाएंगे ना*लायक।

उपखंड स्तर की यह जिम्मेदारी निभाएं,
जनता के पैसों से अपना काम कराये,
यह विधायक कहलाते हैं जो सिर्फ
चुनाव के लिए ही जनता के पास आये।

मुझे ऐसा नेता चाहिए
जो अपनी जेब को छोड़कर
जनता के लिए काम करें,
भ्रष्टाचारी को दूर करके विकसित देशों में अपने देश का नाम करें।

चुनावों की घड़ी आई है,
लग रहा है देश की जनता
एक बार फिर से
भ्रष्टाचारियों के हाथों गुमराई है।

चुनावों में मतदान करना
हमारी जिम्मेदारी है,
अच्छे लीडर्स के होने से ही
बढ़ेगा हर नर नारी है।

कुछ नेता होते हैं जो विधायक
पद का बेवजह फायदा उठाते हैं,
ऐसे नेता देश को कई पीढ़ी पीछे ले जाते हैं।

बीजेपी कांग्रेस को नहीं
न ही सपा और राजद को,
हमें वोट देना है अपने क्षेत्र के मान
और सम्मान के पद को।

कहने को तो विधायक का कर्तव्य
होता है जनता की सेवा करना,
पर यह खुद ही भूल जाते हैं और
खेतों में शुरू कर देते हैं चरना।

लोकतंत्र की प्रक्रिया से आए
जनता के नायक है,
कर्तव्यनिष्ठ और जिम्मेदारियों से भरे
आप हमारे क्षेत्र के विधायक हैं।

हर इंसान को साथ लेकर
चलने का है संकल्प,
आप बने विधायक हमारे
आप ही है एकमात्र विकल्प।

Chunav Prachar Shayari in Hindi

आप करो हमारा चुनाव,
हम लाएंगे आपके लिए बदलाव।

हर जन की पुकार होगी साकार,
युवाओं को मिलेगा रोजगार।

आने दो हमारी बारी,
पूरे देश से भाग जाएगी भ्रष्टाचारी।

सुख समृद्धि और खुशियों के क्षेत्र में
हम चलाएंगे जनता की नाव,
वोट दें आप हमें और जीताएं चुनाव।

हर घर में होगी नौकरी
हर घर में होगा रोजगार,
जीत गए हम चुनाव तो
जनता पर कृपा होगी अपरंपार।

रोजगार और शिक्षा के क्षेत्र को बढ़ाएंगे,
आपके साथ नए भारत का निर्माण करेंगे।

आप दें हमारा साथ,
हम रोजगार तक पहुंचाएंगे आपके हाथ।

आपका साथ, आपका विकास।
हमें लाओ, देश से भ्रष्टाचार हटाओ।
Shayari for Election Speech

हम पर दिखाएं विश्वास,
हम करेंगे आप के विकास।

किसानों के अधिकार होंगे सबल,
वोट देकर हमें दें बल।

दिन रात आपके आपके लिए खड़े रहेंगे,
क्षेत्र के नाम को पूरे देश में रोशन करेंगे।

हर युवा को मिलेगा रोजगार,
हर क्षेत्र में होगा विस्तार,
चुनाव में हमें वोट देकर
जरूर अपनाएं अपना अधिकार।

लोकतंत्र का पर्व मनाना है,
वोट देकर हमें विजयी बनाना है।

पूरे देश का है एक ही नारा,
… पार्टी से ही देश में बहेगी विकास की धारा।

हर चेहरे पर होगी मुस्कान,
हमारे आने से खुश होगा
हर जवान हर किसान।

disclaimer: we’re not associated with any party. this is just an article on election and politics.

चुनाव किसी भी लोकतंत्र देश के लिए जरूरी है। आप भी चुनाव में मतदान अवश्य करें और इस चुनाव शायरी कलेक्शन का आनंद लें।

👇 नीचे दिए buttons पर क्लिक कर Post को शेयर करें:

Add a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.